Like On FaceBook

Hindi Lyrics Sarfaroshi Ki Tamanna ab Hamare Dil Mein Hai - Ghazal

Hindi Lyrics Sarfaroshi Ki Tamanna ab Hamare Dil Mein Hai 

bismil azimabadi,sarfaroshi ki tamanna rekhta,sarfaroshi ki tamanna shayari,sarfaroshi ki tamanna short poem,sarfaroshi ki tamanna lyrics download,sarfaroshi ki tamanna video,सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में सॉन्ग ल्य्रिक्स,सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है देश भक्ति गीत,

Hindi Lyrics Sarfaroshi Ki Tamanna ab Hamare Dil Mein Hai
Hindi Lyrics Sarfaroshi Ki Tamanna ab Hamare Dil Mein Hai 

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है देश भक्ति गीत

sarfaroshī kī tamannā ab hamāre dil meñ hai
dekhnā hai zor kitnā bāzū-e-qātil meñ hai

ai shahīd-e-mulk-o-millat maiñ tire uupar nisār
le tirī himmat kā charchā ġhair kī mahfil meñ hai

vaa.e qismat paañv kī ai zo.af kuchh chaltī nahīñ
kārvāñ apnā abhī tak pahlī hī manzil meñ hai

rahrav-e-rāh-e-mohabbat rah na jaanā raah meñ
lazzat-e-sahrā-navardī dūrī-e-manzil meñ hai
shauq se rāh-e-mohabbat kī musībat jhel le

ik ḳhushī kā raaz pinhāñ jāda-e-manzil meñ hai
aaj phir maqtal meñ qātil kah rahā hai baar baar

aa.eñ vo shauq-e-shahādat jin ke jin ke dil meñ hai
marne vaalo aao ab gardan kaTāo shauq se

ye ġhanīmat vaqt hai ḳhanjar kaf-e-qātil meñ hai
māne-e-iz.hār tum ko hai hayā, ham ko adab

kuchh tumhāre dil ke andar kuchh hamāre dil meñ hai
mai-kada sunsān ḳhum ulTe paḌe haiñ jaam chuur

sar-nigūñ baiThā hai saaqī jo tirī mahfil meñ hai
vaqt aane de dikhā deñge tujhe ai āsmāñ

ham abhī se kyuuñ batā.eñ kyā hamāre dil meñ hai
ab na agle valvale haiñ aur na vo armāñ kī bhiiḌ

sirf miT jaane kī ik hasrat dil-e-'bismil' meñ hai



सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में सॉन्ग Lyrics

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है 

देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है 

ऐ शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत मैं तिरे ऊपर निसार 

ले तिरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफ़िल में है 

वाए क़िस्मत पाँव की ऐ ज़ोफ़ कुछ चलती नहीं 

कारवाँ अपना अभी तक पहली ही मंज़िल में है 

रहरव-ए-राह-ए-मोहब्बत रह न जाना राह में 

लज़्ज़त-ए-सहरा-नवर्दी दूरी-ए-मंज़िल में है 

शौक़ से राह-ए-मोहब्बत की मुसीबत झेल ले 

इक ख़ुशी का राज़ पिन्हाँ जादा-ए-मंज़िल में है 

आज फिर मक़्तल में क़ातिल कह रहा है बार बार 

आएँ वो शौक़-ए-शहादत जिन के जिन के दिल में है 

मरने वालो आओ अब गर्दन कटाओ शौक़ से 

ये ग़नीमत वक़्त है ख़ंजर कफ़-ए-क़ातिल में है 

माने-ए-इज़हार तुम को है हया, हम को अदब 

कुछ तुम्हारे दिल के अंदर कुछ हमारे दिल में है 

मय-कदा सुनसान ख़ुम उल्टे पड़े हैं जाम चूर 

सर-निगूँ बैठा है साक़ी जो तिरी महफ़िल में है 

वक़्त आने दे दिखा देंगे तुझे ऐ आसमाँ 

हम अभी से क्यूँ बताएँ क्या हमारे दिल में है 

अब न अगले वलवले हैं और न वो अरमाँ की भीड़ 

सिर्फ़ मिट जाने की इक हसरत दिल-ए-'बिस्मिल' में है 





Post a comment

0 Comments